उझानी

कछला में ठेके पर शराब पीने के बाद दलित ग्रामीण ने तड़प-तड़प कर तोड़ा दम

उझानी,(बदायूं)। कोतवाली क्षेत्र के कस्बा कछला में बुधवार की दोपहर ठेका देशी शराब से शराब पीने के बाद एक दलित ग्रामीण ने कई घंटों तड़पने के बाद दम तोड़ दिया। जब ग्रामीण तड़प रहा था तब शराब सेल्समैनों ने न तो पुलिस को सूचना देने की जरूरत समझी और न ही उसे अस्पताल भिजवाने की। ग्रामीण की मौत के बाद सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जें में लेने के बाद पीएम को जिला मुख्यालय भेज दिया है। पुलिस की सूचना पर पहुंचे मृतक के भाई ने आरोप लगाया है कि उसके भाई की मौत शराब पीने से हुई है जबकि पुलिस शराब में सल्फाज घोल कर पीने से मौत होना मान रही है।

बताते है कि कोतवाली क्षेत्र के कस्बा कछला स्थित ठेका देशी शराब से सहसवान थाना क्षेत्र के गांव बक्सर बहेड़िया निवासी 42 वर्षीय ह्देश पुत्र हेमराज ने बुधवार की दोपहर लगभग डेढ़ बजे शराब खरीदी और वही बैठ कर पी। बताते है कि शराब पीने के कुछ देर बाद ही ह्देश की अचानक हालत बिगड़ने लगी और वह ठेका के सामने ही गिर कर तड़पने लगा। कछला में हो रही चर्चाओं को माने तो ग्रामीण लगभग तीन घंटे तक तड़पता रहा लेकिन इस दौरान शराब की दुकान के सेल्समैनों ने पुलिस को सूचना देने की जरूरत नही समझी और न ही उसे इलाज के लिए अस्पताल भिजवाया जिससे उसकी शाम को मौत हो गई। बताते है कि शराब ठेका के समाने ग्रामीण की मौत की सूचना किसी ने कछला चौकी पुलिस को दी तब पुलिस ने मौके पर पहुंच कर ग्रामीण के शव को अपने कब्जें में लिया। चर्चा है कि इस दौरान शव के पास से पुलिस को सल्फाज के पाउच भी बरामद हुए है। पुलिस की सूचना पर मृतक का भाई दिनेश अपने परिजनों के साथ उझानी अस्पताल पहुंचा जहां उसने अपने भाई का शव देने के बाद आरोप लगाया कि उसके भाई की मौत शराब पीने से हुई है। उसका कहना है कि पुलिस ने उसके भाई को ठेका शराब के सामने से उठाया है। दिनेश का कहना है कि उसका भाई बुधवार को उझानी स्थित अपनी ननिहाल से वापस कछला होकर घर जाने के लिए निकला था और कछला में रूक कर शराब पीने लगा फिर वह तो घर नही पहुंचा लेकिन उसकी मौत की सूचना जरूर पहुंच गई। इस मामले में जानकारी कर ने पर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक हरपाल बालियान ने बताया कि बताते है कि ग्रामीण ने शराब में सल्फाज घोल कर पी थी जिससे उसकी मौत हो गई। उनका कहना है कि पोस्टमार्टम से स्थिति साफ हो जाएगी कि मौत कैसे हुई है। ग्रामीण की मौत के बाद परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

कई साल पहले पत्नी की हो चुकी है मौत, इकलौता बेटा हुआ अनाथ
उझानी। ह्देश की मौत से आहत परिजनों का कहना है कि ह्देश की पत्नी ने कई साल पहले फांसी लगा कर अपनी जान दे दी थी। पत्नी की मौत के बाद ह्देश ने दूसरी शादी न कर अपने इकलौते बेटे का लालन पालन किया लेकिन अब वह अपने पिता की मौत के बाद अनाथ हो गया है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!