उझानी

डाककर्मियों की शह पर डाकघर का रास्ता बंद कर लगाई गजक की दुकान

उझानी, (बदायूं)। आर्थिक लालच के चलते डाकघर कर्मियों ने डाकघर के प्रवेश द्वार पर गजक की रेहड़ी लगवा कर डाकघर का रास्ता बंद करा दिया है जिससे डाकघर में आने वाले ग्राहकों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सर्वाधिक परेेशानी वरिष्ठ नागरिकों और महिला ग्राहकों को हो रही है इसके बाद भी पोस्टमास्टर डंके की चोट पर कह रहे हैं कि वे इसमें कुुछ नही कर सकते है अतिक्रमण हटवाने का काम पुलिस का है।

नगर के स्टेशन रोड स्थित मुख्य डाकघर पहली मंजिल पर बना हुआ है। डाकघर को जाने के लिए जीने के साहरे ऊपर ग्राहक पहुंचते हैं। बताते है कि डाक कर्मियों ने आर्थिक लालच के चलते डाकघर को जाने वाले जीने के सामने गजक की रेहड़ी लगवा कर रास्ता को लगभग पूरी तरह से बंद कर दिया है। आज सुबह जब डाकघर के कार्य से वहां पहुंचे उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ा। बताते है कि उपभोक्ताओं ने जब डाक कर्मियों से रास्ता बंद होने की बात की तो डाक कर्मियों ने उपभोक्ताओं को झिड़क दिया कि वह अपना काम करें और चलते बने एक दो दिन ऐसे ही काम चलाना पड़ेगा। बताते है कि वामुश्किल ऊपर पहुंच कर अपना काम करा कर लौटे उपभोक्ताओं ने चर्चा की तब जागरूक नागरिकों ने भी विरोध किया लेकिन डाक कर्मी किसी की मानने को तैयार नही थे। बताते है कि वर्ष मंे कई बार डाक कर्मी आर्थिक लालच के चलते डाकघर के जीने को बंद करा कर दुकानें लगवा देते है जिससे आम आदमी को डाकघर पहुंचे में परेशानी होती है। बताते है कि सर्वाधिक परेशानी बुजुर्ग और महिलाओं को हो रही थी जबकि वाहन लेकर डाकघर पहुंचने वाले ग्राहकों को अपने वाहन खड़े करने मंे दिक्कतें आ रही थी। डाकघर के ग्राहकों का कहना है कि वर्तमान समय में डाक कर्मी ग्राहकों से सीधे मुंह बात नही करते है और कुछ भी पूछने पर उल्टी सीधी बोलने मंे लग जाते हैं।

पोस्टमास्टर बोले- रास्ता खुलवाना पुलिस का काम
उझानी। मुख्य डाकघर का रास्ता गजक रेहड़ी वालो ने बंद कर दिया है, ग्राहक कैसे आएगा पर पोस्टमास्टर शिशुपाल ने तपाक से कहा यह ग्राहक जाने वो डाकघर कैसे आएगा हम गजक रेहड़ी वाले को नही हटवाएंगे यह पुलिस का काम है। क्या आपने पुलिस को सूचना दी अथवा नही दी पर वे बोले ग्राहक ही पुलिस को तहरीर दें हमकों क्या पड़ी है और आपको जो छापना है वह छापों हम पर कोई फर्क नही पड़ रहा है।

पोस्टमास्टर को अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए। गैर जिम्मेदाराना व्यवहार उन्हें शोभा नही देता है। इस प्रकरण में मैं उनसे बात करता हूं और डाकघर का प्रवेश द्वार ग्राहकों की सुविधा को तत्काल खुलना चाहिए।
मनोज कुमार डाक अधीक्षक बदायूं

Leave a Reply

error: Content is protected !!