बरेली

पूर्वोत्तर रेलवे के अधिकारियों ने फुल स्केल मॉक ड्रिल आयोजित कर कर्मचारियों की सतर्कता जांची

बरेली। पूर्वोत्तर रेलवे के इज्जतनगर मंडल द्वारा पीलीभीत यार्ड में एन.डी.आर.एफ. टीम, गाजियाबाद के साथ फुल स्केल मॉक ड्रिल आयोजित कर कर्मचारियों की आज सतर्कता जांची गई।

गुरूवार की सुबह लगभग नौ बजे नियंत्रण कक्ष द्वारा सूचना दी गई कि पीलीभीत यार्ड के किमी संख्या 10/14-16 बरेली सिटी से टनकपुर जा रही 05321 स्पेशल का आठवॉ कोच संख्या 96239/1 (जीएससीएन शयनयान) के चार पहिये अवपथित होने एवं आग लगने की संभावना है। अवपथन की सूचना मिलते ही मंडल रेल प्रबंधक आशुतोष पंत, शाखा अधिकारियों सहित पर्यवेक्षक एवं कर्मचारी दुघर्टना स्थल पर पहुँच गए तथा राहत एवं बचाव कार्य में जुट गए। उप कमाडेंड/एन.डी.आर.एफ. श्री कुनाल एन.डी.आर.एफ. टीम के 47 जवानें, 2 स्नीफर डोग्स एवं राहत कार्य संबंधित सभी साजोसामान के दुर्घटना स्थल पर पहुँचे। सूचना प्राप्त होते ही जिला प्रशासन की ओर अपर जिला अधिकारी राम सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट राजेश कुमार एवं पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार सहित अन्य अधिकारी भी पहुंच गये।
सूचना मिलते ही मंडल चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. लक्ष्मी गुंजियाल चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ के साथ घायलों की चिकित्सा हेतु दुर्घटना स्थल पर पहुँची एवं चिकित्सीय कार्य के दौरान कुल 18 घायलों जिसमें 11 गंभीर एवं 7 मामूली रूप से घायलों को चिकित्सा प्रदान की। लालकुआं से एक अधिकारी एवं 32 रेल कर्मचारियों के साथ स्वचालित दुघर्टना सहायता गाड़ी (स्पाट) भी तत्काल दुर्घटना स्थल के लिए रवाना कर दी गई जोकि नियत समय पर दुर्घटना स्थल पर पहुँची। एन.डी.आर.एफ. की टीम, जिला चिकित्सालय/पीलीभीत से एम्बूलेंस, सिविल पुलिस एवं रेलवे सुरक्षा बल के जवानों ने इस अवसर पर तैयार की गई दुर्घटना की विभीषिका में पूरी तत्परता एवं मुस्तैदी से राहत एवं बचाव कार्य सम्पन्न किया। मंडल के नियंत्रण कक्ष में घायलों की सूचना निर्गत करने के लिए हेल्पलाइन नम्बर भी जारी किए गए तथा यू-ट्यूब के माध्यम से नियंत्रण कक्ष को मॉक ड्रिल का सजीव प्रसारण हेतु जोड़ा गया एवं नियंत्रण कक्ष से निर्देशों का आदान-प्रदान किया गया। मंडल रेल प्रबंधक के निर्देश पर वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी श्रीमती नीतू ने मॉक ड्रिल का आयोजन किया।
मंडल रेल प्रबंधक आशुतोष पंत ने एन.डी.आर.एफ., जिला चिकित्सालय की एम्बूलेंस सेवा, जिला प्रशासन, सिविल पुलिस, रेलवे सुरक्षा बल, रेलवे अधिकारियों एवं कर्मचारियों को मॉक ड्रिल के सफल आयोजन के लिए धन्यवाद दिया तथा आशा व्यक्त की कि वे भविष्य में यदि कोई रेल दुर्घटना घटित होती है तो वे सभी आपस में बेहतर समन्वय स्थापित कर राहत एवं बचाव कार्य में पूरी तत्परता दिखायेंगे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!